श्रीमद्भागवत कथा के 5वें दिन भगवान श्रीकृष्ण की कथा से भावविभोर हुए भक्त
श्रीमद्भागवत कथा के 5वें दिन भगवान श्रीकृष्ण की कथा से भावविभोर हुए भक्त




05 Nov 2021 |  40



ब्यूरो जितेंद्र प्रताप तिवारी अयोध्या।शुक्रवार को महरई गौराघाट में विजय बहादुर सिंह उर्फ राकेश सिंह फौजी के यहां चल रही श्रीमद् भागवत कथा का आज पांचवा दिन दिन था।प्रयागराज से आए कथा व्यास विजयानंद महाराज ने कहा कि हमें कृष्ण के जीवन से सीख लेना चाहिए। हमारे मस्तिष्क मे कृष्ण का विचार,ह्वदय में कृष्ण पर प्रेम,मुख में कृष्ण का नाम और हाथ मे कृष्ण का काम ऐसा हम सब का जीवन हो।विजयानंद महराज ने भजन गाये तो सभी भक्त भावविभोर होकर नाचने गाने लगे। भागवत कथा के प्रसंग में कथा वाचक विजयानंद महराज ने भगवान श्री कृष्ण की बाल लीला का वर्णन करते हुए भक्तों को कहा कि धरती पर कंस का अत्याचार बढ़ रहा था,धरती पापों से कराह रही थी।तब कन्हैया का अवतार हुआ। श्रीकृष्ण के पैदा होने के बाद कंस उनको मौत के घाट उतारने के लिए अपनी राज्य की सर्वाधिक बलवान राक्षस पूतना को भेजता है। पूतना वेष बदलकर भगवान श्रीकृष्ण को अपने स्तन से जहरीला दूध पिलाने का प्रयास करती है। लेकिन भगवान श्रीकृष्ण उसको मौत के घाट उतार देते हैं।कंस ने भगवान श्रीकृष्ण को मारने के लिए तमाम तरह के तमाम प्रकार के प्रयोग किए परंतु वह हर बार असफल रहा। इस अवसर पर कथा व्यास विजयानंद महाराज ने अखिल भारतीय क्षत्रिय कल्याण परिषद,अयोध्या के जिलाध्यक्ष राजेश कुमार सिंह,उपाध्यक्ष कुलदीप सिंह, युवा जिला महामंत्री विनय सिंह, सोहावल ब्लॉक अध्यक्ष सतनाम सिंह को अंगवस्त्र प्रदान कर आशीर्वाद दिया। इस अवसर पर संगठन के संरक्षक अमरनाथ सिंह, महामंत्री सूर्यभान सिंह, संगठन मंत्री रविन्द्र सिंह, मीडिया प्रभारी द्वारिकाधीश सिंह, धर्मेंद्र सिंह,अमरदीप सिंह रिंकू, त्रिलोक चंद बैस राजपूत समिति के कोषाध्यक्ष अनिल सिंह,अमर बहादुर सिंह, ऋतुराज सिंह, पृथ्वीराज सिंह, श्रीराम सिंह, राजेश सिंह, रमेश सिंह काका, भाजपा नेता दीप कुमार गुप्ता सहित अन्य जन उपस्थित रहे।



More news