पूर्वांचल के हर घर में पहुंचेगा नल से जल,1296 गांवों को मिलेगी घर घर पेयजल की सौगात
पूर्वांचल के हर घर में पहुंचेगा नल से जल, 1296 गांवों को मिलेगी घर घर पेयजल की सौगात


04 Dec 2021 |  22



धनंजय सिंह स्वराज सवेरा एडिटर इन चीफ यूपी

लखनऊ।बुंदेलखंड और विंध्य क्षेत्र के बाद अब पूर्वांचल में हर घर में नल से जल पहुंचाया जाएगा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट जल जीवन मिशन के दूसरे चरण में प्रदेश में 66 जिलों में हर घर नल योजना का कार्य शुरू कर दिया गया है।पूर्वांचल में इस योजना की शुरुआत प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से की गई है।

प्रमुख सचिव नमामि गंगे और ग्रामीण जलापूर्ति विभाग अनुराग श्रीवास्तव के अनुसार हर घर नल से जल योजना से वाराणसी के उन ग्रामीण इलाकों को फायदा होगा जहां पर पीने के पानी की परेशानी हैं। 69 गांवों के 20248 घरों तक पाइप लाइन बिछाने का काम लगभग पूरा हो चुका है। बहुत जल्द नल से शुद्ध पीने का पानी भी मिलना शुरू हो जाएगा।
वर्ष 2022 तक 1296 गांवों के 348505 परिवारों तक नल से शुद्ध पेयजल पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है।

प्रमुख सचिव ने बताया कि वाराणसी के 125 गांवों में रेट्रोफिटिंग के माध्यम से 22079 घरों को शुद्ध पेजयल पहुंचाया जा रहा है। आजादी के बाद पहली बार ग्रामीण इलाकों में नल से जलापूर्ति की सुविधा मिलेगी।पहले चरण में बुंदेलखंड और विंध्‍य में काफी तेजी से काम चल रहा है।इस योजना में वाराणसी को ग्रामीण जलापूर्ति के आदर्श मॉडल के रूप में पेश किया जाएगा।ग्रामीण इलाकों में जलापूर्ति पूरी तरह से सौर ऊर्जा पर आधारित होगी।आपूर्ति के लिए सेंसर आधारित आटोमेटिक सिस्‍टम का इस्‍तेमाल किया जाएगा। उत्तर भारत के ग्रामीण इलाकों में पहली बार इस तरह की तकनीक और ऊर्जा की बचत के साथ जलापूर्ति की जाएगी।

प्रमुख सचिव ने बताया कि इस परियोजना में गांवों में नल से शुद्ध जल पहुंचाने में बिजली का उपयोग न के बराबर होगा।साथ ही पानी की बर्बादी को रोकने के लिए सेंसर लगाए जा रहे हैं, ताकि टंकी भरने के बाद पानी की सप्लाई खुद ही बंद हो जाय और पानी की बर्बादी न हो।


More news