रायबरेली में लगे अदिति सिंह के विवादित पोस्टर,गंभीर आरोपों के साथ चरित्र पर की गई टिप्पणी
रायबरेली में लगे अदिति सिंह के विवादित पोस्टर,गंभीर आरोपों के साथ चरित्र पर की गई टिप्पणी


04 Dec 2021 |  47





रायबरेली।उत्तर प्रदेश में 2022 के विधानसभा चुनाव के करीब आने से ठीक पहले रायबरेली से सदर विधायक अदिति सिंह ने हाल ही में भाजपा की सदस्यता ले ली है। कांग्रेस की बागी नेता कही जाने वाली अदिति सिंह की सदस्यता का विवाद अभी कम भी नहीं हुआ था कि एक नया पोस्टर विवाद फिर से शुरू हो गया है।

रायबरेली जिले में इन दिनों ये पोस्टर चर्चा का विषय बना हुआ है। शहर में जगह-जगह पोस्टर चिपकाए गए है। पोस्टर में विधायक सदर विधायक अदिति सिंह को कुलकलंकिनी के नाम से पुकारा जा रहा है। पोस्टर में उनकी बहन देवांशी गुप्ता को भी बुरा-भला कहा गया है।पोस्टर में अदिति सिंह के साथ उनकी बहन की तस्वीर भी लगाई गई है। सामाजिक बहिष्कार के इन पोस्टरों में अदिति सिंह और उनकी बहन पर गम्भीर आरोपों के साथ चरित्र पर भी टिप्पणी की गई है और गंभीर आरोप लगाए गए हैं।

पोस्टर में अदिति सिंह और उनकी बहन के चरित्र पर सवाल खड़ा करते हुए लिखा गया है कि 'तुमने अखिलेश सिंह का नामोनिशान मिटा दिया इसलिए ऐसी स्वेच्छाचारिणी, कुल कलंकित और चरित्रहीन बेटियों पर थूकता है रायबरेली का जनमानस'। इसके साथ ही पोस्टर में यह भी कहा गया है कि 'तुमने धुन्नी सिंह और अखिलेश सिंह का नाम तो मिट्टी में मिला ही दिया। साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का नाम अपने साथ जोड़कर उन्हें भी शर्मसार किया'।

हाल ही में अदिति सिंह की बहन देवांशी सिंह की शादी अखिलेश दास गुप्ता के बेटे से हुई थी उसके बाद पोस्टर में इस बात को लेकर भी अदिति सिंह को आड़े हाथ लिया। पोस्टर में आदित्य सिंह और आरोप लगाया गया है कि 'तुमने अखिलेश सिंह और मंगल सिंह सैनी के घर को तो तबाह कर ही दिया है, अब अखिलेश दास गुप्ता के घर पर भी तुम्हारी कुदृष्टि है'। उसमें लिखा है कि 'देश का क्षत्रिय समाज तुम्हारे पाप और अहंकार के कारण सैनी और गुप्ता को बहनोई नहीं कह सकता और न ही तुम्हें दीदी कह सकता है'। पोस्टर में अदिति सिंह और उनकी बहन पर कई अन्य विवादित टिप्पणी की गई हैं।

आपको बता दें कि रायबरेली सदर से बाहुबली विधायक और पूर्व कद्दावर कांग्रेस के नेता स्व. अखिलेश सिंह की बेटी अदिति सिंह ने हाल ही में कांग्रेस का दामन छोड़कर भाजपा की सदस्यता ले ली है।अदिति सिंह पिछले करीब डेढ़ साल से कांग्रेस पार्टी के विरोध में बयानबाजी कर रही थीं।अदिति सिंह कांग्रेस आलाकमान तक पर बयान देने से परहेज नहीं किया था।

इस पोस्टर की सियासी गलियारों में भी चर्चा है कि अदिति सिंह के भाजपा में जाने का बड़ा नुकसान उनके पति अंगद सिंह सैनी को हो सकता है। वे पंजाब की नवांशहर सीट से विधायक हैं।रायबरेली कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का संसदीय क्षेत्र है।यहां ये भी जानना जरूरी है कि अदिति के पिता अखिलेश सिंह भी कांग्रेस से विधायक थे। बाद में उनके संबंध कांग्रेस से खराब हो गए थे,लेकिन उस समय भी वे पार्टी से अलग नहीं हुए थे।

विधायक अदिति सिंह की छोटी बहन देवांशी का विवाह लखनऊ के पूर्व मेयर व पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व. अखिलेश दास के बेटे विराज दास के साथ हुआ है।अखिलेश दास बसपा के बड़े नेता थे। वर्तमान में देवांशी बीडीसी सदस्य हैं और धुन्नी सिंह फाउंडेशन नाम से एनजीओ चलाती हैं।


More news