कांग्रेस के दिग्गज नेता प्रमोद तिवारी की बेटी आराधना मिश्रा के खिलाफ सपा नहीं उतार सकी कोई प्रत्याशी
कांग्रेस के दिग्गज नेता प्रमोद तिवारी की बेटी आराधना मिश्रा के खिलाफ सपा नहीं उतार सकी कोई प्रत्याशी


10 Feb 2022 |  102



रिपोर्ट-अनुज सिंह

प्रतापगढ़।उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले चरण के होने वाले मतदान से पहले यूपी की सियासत में जबरदस्त एक दिलचस्प मोड़ आ गया है।यूपी कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता रामपुर खास से कांग्रेस प्रत्याशी आराधना मिश्रा मोना के खिलाफ समाजवादी पार्टी अपना प्रत्याशी नहीं उतार सकी है।जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के मुखिया रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भइया ने भी इस सीट पर अपना प्रत्याशी नहीं उतारा है।
ऐसे में अब यूपी के सियासी गलियारों में चर्चा है कि दोनों पार्टियों ने कांग्रेस प्रत्याशी आराधना मिश्रा का वाॅक‌ओवर दे दिया है।

पिछले दिनों कांग्रेस ने समाजवादी पार्टी के मुखिया व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और उनके चाचा शिवपाल सिंह यादव के खिलाफ अपना प्रत्याशी न उतारने का ऐलान किया था।अखिलेश यादव मैनपुरी जिले की करहल विधानसभा सीट से और शिवपाल यादव इटावा जिले की जसवंतनगर सीट से चुनाव लड़ रहे हैं।अब सपा ने रामपुर खास विधानसभा सीट से अपना प्रत्याशी न उतारने का फैसला कर कांग्रेस प्रत्याशी आराधना मिश्रा मोना वाॅक‌ओवर दे दिया है।

कांग्रेस का गढ़ है रामपुर खास

आपको बता दें कि रामपुर खास विधानसभा 1980 से ही कांग्रेस का गढ़ मानी जाती है। यहां से कांग्रेस ने आराधना मिश्रा मोना को चुनावी मैदान में उतारा है।मोना कांग्रेस के दिग्गज नेता प्रमोद तिवारी की बेटी हैं।रामपुर खास विधानसभा से प्रमोद तिवारी लगातार नौ बार विधायक रहे हैं।प्रमोद तिवारी के राज्यसभा जाने के बाद इस सीट से उनकी बेटी मोना विधायक चुनी गई थीं। प्रमोद तिवारी सपा के सहयोग से ही राज्यसभा पहुंचे थे।


More news