मोहाली ब्लास्ट में बड़ा खुलासा:इमारत और पुलिस वाले थे निशाने पर,एन‌आईए और सेना को मिले इन सबूतों से चौंके अधिकारी सबूतों
मोहाली ब्लास्ट में बड़ा खुलासा: इमारत और पुलिस वाले थे निशाने पर,एनआईए और सेना को मिले इन सबूतों से चौंके अधिकारी


11 May 2022 |  120





मोहाली।पंजाब पुलिस के खुफिया मुख्यालय पर बीते दिनों शाम को हमला हुआ था।इस मामले में पुलिस ने फतेहगढ़,अंबाला और तरनतारन से 11 संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है।पुलिस पूछताछ में कई अहम सुराग मिले हैं। पुलिस ने उस लांचर को भी बरामद कर लिया है,जिससे रॉकेट चलित ग्रेनेड (आरपीजी) को दागा गया था।लांचर चीन निर्मित बताया जा रहा है।

पंजाब पुलिस महानिदेशक वीके भावरा ने बताया कि आरपीजी में ट्रिनिट्रोटोल्यूइन (टीएनटी) विस्फोटक का इस्तेमाल किया गया था। इसका इस्तेमाल आमतौर पर श्रीनगर में आतंकी हमले के दौरान होता रहा है।उन्होंने दावा किया कि पुलिस को कई लीड मिली हैं,जिनके आधार पर जल्द ही इस केस को सुलझा दिया जाएगा। घटनास्थल पर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) और सेना की टीमें भी पहुंचीं। उधर मोहाली पुलिस ने सोहाना थाने में विभिन्न धाराओं के तहत अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

मिली जानकारी के अनुसार पंजाब पुलिस के खुफिया विभाग के मुख्यालय पर राॅकेट प्रोपेल्ड ग्रेनेट (आरपीजी) हमले में बुधवार को फरीदकोट पुलिस ने तरनतारन जिले के गांव कुल्ला निवासी निशान सिंह नाम के एक युवक को गिरफ्तार कर मोहाली पुलिस के हवाले कर दिया है। निशान सिंह की गिरफ्तारी से पुलिस के लिए ब्लास्ट मामले में बड़ी कामयाबी है।इस गंभीर मुद्दे पर पंजाब की सभी सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट पर है। ऐसे में फरीदकोट सीआइए स्टाफ भी इस घटना की जांच में शामिल हुआ और अमृतसर से निशान सिंह को संदेह के आधार पर गिरफ्तार किया। प्रारंभिक पूछताछ उपरांत निशान सिंह को फरीदकोट से सीआइए स्टाफ द्वारा मोहाली ले जाया गया है।

इमारत व पुलिस वाले थे निशाने पर

पंजाब पुलिस का खुफिया मुख्यालय ही आरोपियों के निशाने पर था, क्योंकि इसमें पंजाब पुलिस के कई विंग चलते हैं। पुलिस के आला अधिकारी भी यहीं बैठते हैं। जांच में पता चला है कि हमलावरों का निशाना चूक गया है। विस्फोटक अंदर जाने के बजाय दीवार से टकराया है।


More news