ज्ञानवापी मस्जिद का फिर सर्वे करवाने की अर्जी पर कल सुनवाई करेगा कोर्ट
ज्ञानवापी मस्जिद का फिर सर्वे करवाने की अर्ज़ी पर कल सुनवाई करेगा कोर्ट


17 May 2022 |  38



ब्यूरो प्रेम शंकर मिश्र

वाराणसी।ज्ञानवापी मस्जिद का फिर से सर्वे करवाने की अर्जी वाराणसी कोर्ट में दाखिल की गई है।इस मामले पर बुधवार को सुनवाई होगी।।मंगलवार को ज्ञानवापी मस्जिद मामले में उस समय मोड़ आ गया,जब कोर्ट ने विशेष कमिश्नर अजय कुमार मिश्रा के खिलाफ मीडिया में बयानबाजी करने और प्राइवेट कैमरामैन रखने के आरोपों का संज्ञान लिया और उन्हें हटाने का फैसला किया।कोर्ट शिवलिंग की पैमाइश और वजूखाने के लिए सुविधाओं को लेकर हिन्दू और मुस्लिम पक्ष की अलग-अलग याचिकाओं पर भी बुधवार को सुनवाई करेगा।

कोर्ट में मुस्लिम पक्ष इंतजामिया कमेटी की ओऱ से याचिका दायर की थी और कोर्ट द्वारा वजूखाने के आसपास के इलाके को सील करने के आदेश को लेकर अपनी बात रखी थी। कमेटी ने मस्जिद आने वालों के लिए शौचालय,पानी के पाइप, और मछलियों को उस छोटे से तालाब से निकालकर अलग ले जाने की मांग की थी।वहीं हिन्दू पक्ष ने शिवलिंग की ऊंचाई, लंबाई नापने वाली याचिका दी थी।शिवलिंग की पैमाइश के मसले पर मुस्लिम पक्ष से आपत्ति मांगी गई है जबकि शौचालय औऱ पानी के पाइप आदि को लेकर हिंदू पक्ष से आपत्ति मांगी गई है। कहा जा रहा है कि कोर्ट ने यह पाया कि अजय कुमार मिश्रा ने ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के लिए प्राइवेट वीडियोग्राफर रखा था और वो लगातार मीडिया में केस से जुड़े मुद्दों पर अपनी बात रख रहे थे।इस कारण अजय कुमार मिश्रा कार्यमुक्त करने का फैसला लिया गया।

इससे पहले कोर्ट में सुनवाई के दौरान कमिश्नर विशाल सिंह ने ऑन रिकॉर्ड कहा कि चीफ कमिश्नर अजय कुमार मिश्रा का रवैया सर्वे के दौरान ठीक नहीं था।उनके द्वारा एक निजी वीडियोग्राफर रखा गया था और लगातार मीडिया में खबरें लीक की जा रही थीं।इसके बाद कोर्ट ने अजय कुमार मिश्रा को हटाने का निर्णय़ किया और साथ ही सर्वे रिपोर्ट दाखिल करने के लिए दो दिन का समय दिया है।

आपको बताते चलें कि ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे में हिन्दू पक्ष ने वजूखाने की जगह पर शिवलिंग मिलने का दावा किया है। हिंदू पक्ष ने कोर्ट से इस स्थान को सील करने के साथ सुरक्षा देने की मांग की थी,जिसके बाद कोर्ट ने उस स्थान को सील करने का आदेश दिया था।मुस्लिम पक्ष का कहना है कि इस मामले में लगातार गुमराह करने का काम किया जा रहा है। मुस्लिम पक्ष ने कहा कि जिसे शिवलिंग बताया जा रहा है, वो एक फव्वारा मात्र है।


More news