रामलला की प्राण प्रतिष्ठा से भव्य होगी अयोध्या में रामनवमी, 50 लाख श्रद्धालुओं के आने की संभावना,तैयारी में जुटा प्रशासन
रामलला की प्राण प्रतिष्ठा से भव्य होगी अयोध्या में रामनवमी, 50 लाख श्रद्धालुओं के आने की संभावना,तैयारी में जुटा प्रशासन

29 Mar 2024 |  105




अयोध्या।रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के बाद रामनगरी अयोध्या में पहली रामनवमी को लेकर उत्साह चरम पर है। गुरुवार को मुख्य सचिव दुर्गाशंकर मिश्र और पुलिस महानिदेशक प्रशांत कुमार ने रामनगरी पहुंचे और समीक्षा बैठक की।इससे पहले दोनों अधिकारियों ने मंदिर परिसर का भ्रमण कर सभी व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने के निर्देश दिए।बैठक में राम जन्मभूमि परिसर की सुरक्षा को लेकर भी अधिकारियों को निर्देश दिए गए। बैठक में श्रद्धालुओं के लिए सुगम दर्शन, ठहरने, पेयजल, मेडिकल सहित अन्य सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त करने के निर्देश भी दिए गए।

बता दें कि 17 अप्रैल को रामनवमी है। रामनगरी में रामनवमी मेला 9 दिनों तक चलता है। मुख्य पर्व चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को रामजन्मोत्सव में रूप में मनाया जाता है। उत्सव की शुरुआत चैत्र नवरात्रि के आरंभ के साथ हो जाएगी,जिसके बाद 9 दिनों तक रामनगरी में अनुष्ठानों की धूम रहेगी।लंबे इंतजार और संघर्षों के बाद भव्य राम मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा हुई है। प्राण प्रतिष्ठा के बाद श्रद्धालुओं में श्रद्धा साफ देखी जा सकती है। लगभग 2 लाख श्रद्धालु रोज दर्शन कर रहे हैं।कभी-कभी श्रद्धालुओं की संख्या 4 से 5 लाख तक पहुंच जाती है।अब इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि आम दिनों में जब इतने श्रद्धालु रामनगरी पहुंचते हैं तो रामनवमी में कितनी बड़ी संख्या श्रद्धालु आएंगे।

आईजी प्रवीण कुमार ने बताया कि रामनवमी के पर्व पर लगभग 50 लाख श्रद्धालुओं के अयोध्या पहुंचने की उम्मीद है। 17 अप्रैल को भव्य और दिव्य मंदिर में पहली रामनवमी मनाई जाएगी। मुख्य सचिव और डीजीपी ने क्राउड मैनेजमेंट के लिए कई दिशा-निर्देश दिए हैं।आईजी ने कहा कि सुरक्षा में किसी प्रकार की कोई लापरवाही नहीं होनी चाहिए। सभी निर्देशों का पालन कराया जाएगा।

आईजी प्रवीण कुमार ने बताया कि गत दिनों मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी अधिकारियों के साथ राम नवमी मेले में देश के कोने-कोने से आने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा को लेकर बैठक की थी। मुख्यमंत्री की बैठक में दिए गए निर्देशों का पालन कराने के लिए दोनों अधिकारियों ने स्थानीय अधिकारियों को निर्देश दिए।

More news