रामनवमी पर मंडरा रहा कोरोना का खतरा,विदेशी श्रृद्धालुओं पर होगी खास नजर
रामनवमी पर मंडरा रहा कोरोना का खतरा,विदेशी श्रृद्धालुओं पर होगी खास नजर

11 Apr 2024 |  116




अयोध्या।रामनगरी अयोध्या में 500 सालों के बाद 22 जनवरी 2024 को भव्य राम मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा हुई। प्राण प्रतिष्ठा बाद अब रामनगरी में रामनवमी की तैयारी बड़े जोर-शोर से चल रही है।इस बार रामनवमी में 50 लाख से अधिक श्रद्धालुओं के आने की संभावना है।ऐसे में रामनगरी आने वाले श्रद्धालुओं को किसी भी तरह की कोई असुविधा न हो राम मंदिर ट्रस्ट और जिला प्रशासन इसका विशेष ध्यान दे रहा है।

रामनवमी में रामनगरी में देश के अलग-अलग हिस्सों के अलावा दूसरे देशों से भी भारी संख्या में श्रद्धालुओं के आने की संभावना है।इसी बीच विदेशों में बढ़ते कोरोना के मामले ने प्रशासन के कान खड़े कर दिए हैं।विदेशी श्रृद्धालुओं के लिए रामनगरी में खास इंतजाम किया गया है। कोरोना के बढ़ते हुए मामलों से बचने के लिए रोकथाम के सारे उपाय किए जा रहे हैं।

रामनवमी के दौरान रामनगरी में कोरोना के खतरे को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग तैयारियों में जुटा हुआ है।किसी भी श्रध्दालु को कोई असुविधा न हो इसको लेकर अस्पतालों में भी विशेष व्यवस्थाएं की जा रही हैं।देश के अलावा विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए रामनगरी के अस्पतालों में विशेष क्वारंटाइन वार्ड बनाए गए हैं।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर अरुण श्रीवास्तव ने बताया कि रामनवमी में आने वाले लाखों की संख्या में भीड़ को देखते हुए कोविड-19 से निपटने के लिए जिला अस्पताल में 4 विशेष क्वारंटाइन वार्ड बनाए गए हैं। उन्होंने बताया कि 17 अप्रैल को रामनवमी है।इस दौरान अगर किसी भी इंसान में कोरोना के लक्षण पाए जाते हैं तो उन्हें क्वारंटाइन वार्ड में 14 दिन तक रहना होगा।

More news