कोविड पैरोल पर छोड़े गए थे 44 कैदी,वापस नहीं लौटे 15 कैदी,पुलिस तलाश में जुटी
कोविड पैरोल पर छोड़े गए थे 44 कैदी,वापस नहीं लौटे 15 कैदी,पुलिस तलाश में जुटी

23 Jun 2022 |  30





उन्नाव।वैश्विक महामारी कोरोना काल के दौरान उत्तर प्रदेश के उन्नाव में कोविड पैरोल पर 44 बंदी छोडे़ ग‌ए थे।इनमें से 15 बंदी जेल से वापस नहीं लौटे हैं।इनमें से दो बंदी ऐसे हैं जिनका पता गलत दर्ज होने से इनकी लोकेशन पुलिस को पता नहीं चल पा रही है।छोड़े गए बंदियों को लेकर पुलिस खासी परेशान हो रही है।

कार्यवाहक जेल अधीक्षक ने पुलिस अधीक्षक को कई पत्र लिखकर फरार बंदियों की गिरफ्तारी करने की मांग कर चुके हैं,लेकिन पांच महीने बाद भी पुलिस फरार 15 बंदियों की गिरफ्तारी नहीं कर पाई है।एक बार फिर जेल अधीक्षक ने एसपी को पत्र लिखकर जेल वापस न आने वाले बंदियों को गिरफ्तार कर जेल भेजने का पत्र लिखा है।

आपको बता दें कि कोरोना काल के दौरान जेलों का बोझ कम करने के लिए 7 वर्ष या उससे कम सजा वाले कैदियों को मई से लेकर अगस्त के बीच 44 बंदियों को तीन-तीन महीने की कोविड पैरोल दी गई थी।ये पैरोल फरवरी 2022 में खत्म हो है।उसके बाद भी 15 बंदी अभी वापस नहीं लौटे हैं।जेल प्रशासन अब इन कैदियों को पकड़ने के लिए जेल प्रशासन और अधिकारी स्‍थानीय पुलिस को चिट्ठी लिखकर इनको पकड़ने की मांग कर रहे हैं।पुलिस ने अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है।पुलिस पूरे मामले में अपना बयान देने से भी बचती नजर आ रही है।

जिला कारागार उन्नाव के कार्यवाहक जेल अधीक्षक राजीव कुमार सिंह ने बताया कि कोविड काल में जिला कारागार उन्नाव से 44 दोष सिद्ध बंदियों को रिलीज किया गया था।उनमे से 8 बंदी ऐसे हैं जो रिलीज हो भी चुके हैं मतलब उनकी या तो जमानत हो गयी है या फिर सजा पूरी हो गयी है। 15 बन्दी शेष हैं , जिनकी गिरफ्तारी बाकी है। सम्बन्धित थानाध्यक्ष को और एसपी को लेटर भेजे हैं।उन्होंने बताया कि छोटी धाराओ में जिसमें कम सजा थी या फिर सात वर्ष के कम सजा वाले बंदियों को रिलीज किया गया था।


More news