अमेठी सांसद केएल शर्मा के नॉमिनेशन फॉर्म में बड़ी गलती आई सामने,मचा हंगामा
अमेठी सांसद केएल शर्मा के नॉमिनेशन फॉर्म में बड़ी गलती आई सामने,मचा हंगामा

10 Jun 2024 |  65




अमेठी।लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद कांग्रेस को राहत जरूर मिली है।कांग्रेस ने अपनी सीटों की संख्या दोगुनी कर ली है।कांग्रेस का गढ़ रही अमेठी सीट पर पार्टी ने एक बार फिर कब्जा जमा लिया है। अमेठी से इस बार कांग्रेस ने राहुल गांधी की जगह भारतीय जनता पार्टी की स्मृति ईरानी के सामने गांधी परिवार के सेवक किशोरी लाल शर्मा को चुनावी रण में उतारा था।केएल शर्मा कांग्रेस की उम्मीदों पर खरे भी उतरे। इस बीच अमेठी सीट जीतने वाले कांग्रेस सांसद केएल शर्मा को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है।

दरअसल केएल शर्मा के नॉमिनेशन फॉर्म के एफिडेविट में एक बड़ी गलती हुई है।नॉमिनेशन फॉर्म में लोकसभा चुनाव 18वीं के स्थान पर 17वीं लिखा हुआ है। यह सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। केएल शर्मा के नॉमिनेशन फॉर्म के एफिडेविट के वायरल होने के बाद उनकी मुश्किलें बढ़ने की बात कही जा रही है। सवाल उठ रहा है कि चुनाव आयोग इसे लेकर केएल शर्मा पर क्या कार्रवाई करता है।सवाल यह भी पूछे जा रहे हैं कि क्या उनकी सांसदी जाएगी।

बता दें कि लोकसभा चुनाव लड़ने वाले किसी भी प्रत्याशी के नामांकन पत्रों और उसके एफिडेविट की जांच चुनाव आयोग करता है, लेकिन इलेक्शन कमीशन के अधिकारी केएल शर्मा की इस गलती को पकड़ नहीं पाए।अमेठी लोकसभा सीट से केएल शर्मा चुनाव जीत गए। आयोग ने कांग्रेस नेता को प्रमाण पत्र भी जारी कर दिया। लोकसभा चुनाव लड़ने वाले सभी प्रत्याशी नामांकन पत्र दाखिल करते हैं। चुनाव आयोग प्रत्याशियों से जानकारी मांगता है। प्रत्याशी नॉमिनेशन फॉर्म और एफिडेविट के जरिए जानकारियों को शेयर करते हैं। प्रत्याशी के सभी दस्तावेजों की जांच निर्वाचन आयोग करता है। चुनाव आयोग को किसी भी दस्तावेज में कोई भी गड़बड़ी या फिर वह संदिग्ध लगता है, तो ऐसे में चुनाव आयोग उस प्रत्याशी की उम्मीदवारी को भी रद्द कर सकता है।

बता दें कि 17वीं लोकसभा में अमेठी संसदीय सीट से कांग्रेस की तरफ से राहुल गांधी ने भाजपा प्रत्याशी स्मृति ईरानी के खिलाफ चुनाव लड़ा था।राहुल गांधी को स्मृति ईरानी के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। वहीं 18वीं लोकसभा में इंडिया गठबंधन की तरफ से किशोरी लाल को चुनावी मैदान में उतारा गया। इस चुनाव में भाजपा ने स्मृति ईरानी को किशोरी लाल के खिलाफ चुनाव लड़वाया, लेकिन इस बार चुनाव में भाजपा प्रत्याशी और केंद्रीय मंत्री रहीं स्मृति ईरानी को किशोरी लाल से शिकस्त मिली। किशोरी लाल ने स्मृति ईरानी को 1,67,196 मतों के अंतर से हराया।

More news